चारधाम यात्रा सिर्फ धार्मिक आस्था का नहीं बल्कि हजारो लोगो के रोजी रोटी से भी जुडी हुई है

Last Updated : Apr 28, 2020   Views : 167

देहरादून उत्तरखंड : चारधाम यात्रा सिर्फ धार्मिक आस्था का नहीं बल्कि हजारो लोगो के रोजी रोटी से भी जुडी हुई है,
साल २०१३ में आई आपदा से जैसे तैसे चारधाम यात्रा आगे बड़ी तो अब कोरोना महामारी ने जैसे के इसकी कमर ही थोड़ के रख दी। २०१३ की बाद २-३ साल तक चारधाम यात्रा कभी प्रभावित रही है । २०१६ से यात्रा ने आपनी रफ़्तार पकड़ी तो अब कोरोना महामारी इसकी बीच में आ गई जिसके कारण उत्तराखंड ही बल्कि काफी प्रदेशो में इस यात्रा का प्रभाव पड़ा है ।

क्युकी चारधाम यात्रा पूरी समय के लिए नही खुलती यह शिर्प ६ महीनो की लिए खुलती है जिसमे की बरसात का समय भी होता है इस दौरान यात्रा काफी वाधित रहती है और शर्दियो में बर्फ की कारण यात्रा बंद कर दी जाती है तो इससे जुड़े हुए वयापारियो को ४-५ महीने ही काम करने की लिए मिलते है और पुरे साल उनको खाली बैठना पड़ता है ।

अब जो की इस कोरोना महामारी की चलते इससे जुड़े लोगो की रोजी रोटी पर संकट आ गया है । चारधाम यात्रा से निम्न लोग जुड़े हुए है
१: होटल व्यव्साय
२: वाहन व्यव्साय
३: रेस्टोरेंट व्यव्साय
४: घोडा खच्चर वाले
५ : रोड साइड दूकान वाले
६: मजदूर लोग
७: दुकानों और होटलो में काम करने वाले
८ : और भी बहुत सारे लोग है
यैसे बहुत सारे लोग है जो चारधाम की यात्रा से डायरेक्ट और इन डायरेक्ट जुड़े हुए है । उत्तराखंड के नही बल्कि बहार क़े लाखों अन्य लोग भी चारधाम यात्रा पर प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से निर्भर रहते हैं। इससे जुड़े हुई लोग यात्रा सीजन क़े लिए काफी पहले से ही तैयारी करते है । बहुत सारे लोगो ने तो बैंको से लोन इत्यादि ले रखा है तो उनके आगे अब समस्या खड़ी हो गई है

देशभर में चल रहे लॉकडाउन के बीच ही केदारनाथ मंदिर के कपाट 29 अप्रैल को खुलने जा रहे हैं। आमतौर पर कपाट खुलने वाले दिन जहां केदारनाथ मंदिर में 30 से 40 हजार लोग मौजूद होते हैं वहीं इस बार अनुमान लगाया जा रहा है कि यह संख्या शायद मात्र 10 से 15 लोगों तक ही सीमित कर दी जाए। सिर्फ रावल, पुजारी, धर्माधिकारी और कुछ हकहकूकधारी जैसे वे ही लोग इस दिन शामिल हों जिनकी उपस्थिति पारंपरिक तौर से इस आयोजन में अनिवार्य मानी जाती है।

Related Post

1 Response to चारधाम यात्रा सिर्फ धार्मिक आस्था का नहीं बल्कि हजारो लोगो के रोजी रोटी से भी जुडी हुई है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Us On Facebook