भारत रत्न ,महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और हिमालय पुत्र नाम की संज्ञा से सुशोभित स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा जी

Last Updated : Apr 25, 2020   Views : 193

आज के दिन भारत रत्न ,महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और हिमालय पुत्र नाम की संज्ञा से सुशोभित स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा जी का जन्म २५ अप्रैल १९१९ को पौड़ी जिले के बुधाणी गांव में हुआ था। इन्होंने उच्च शिक्षा इलाहबाद से प्राप्त की तथा छात्र राजनीति में सक्रिय होकर भारतीय स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। १९४२ के स्वाधीनता आंदोलनों में इनके योगदान को देखते हुए तत्कालीन अंग्रेज सरकार ने इन पर ५००० रुपए का इनाम घोषित किया था। १९४३ में दिल्ली के जामा मस्जिद के निकट अंग्रेजों द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए। फिर २ वर्ष १९४३ से लेकर १९४५ तक ये जेल में रहे। दृढ़ इक्छा शक्ति, मजबूत इरादे एवं ओजस्वी विचारधारा इनके व्यक्तित्व के प्रमुख आकर्षण थे। इनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत कांग्रेस से हुई थी। इनका राजनीतिक जीवन अनेकों उपलब्धियों से भरा रहा जिसमें उत्तरप्रदेश सरकार के २ बार मुख्यमंत्री, केंद्र सरकार में मंत्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के विभिन्न उच्च पदों पर रहे जिस कारण इन्हें उस दौर में राजनीति का चाणक्य भी कहा जाता था। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री रहते हुए पहाड़ के विकास के लिए इन्होंने पर्वतीय विकास मंत्रालय का गठन कर पहाड़ के विकास का मार्ग प्रशस्त किया। अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति, पहाड़ से मजबूत इरादों के लिए इन्हें हिमालय पुत्र के नाम से ख्याति प्राप्त हुई। स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा जी की जयंती पर भावपूर्ण स्मरण एवं शत शत नमन।

Related Post

1 Response to भारत रत्न ,महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और हिमालय पुत्र नाम की संज्ञा से सुशोभित स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Us On Facebook