सरीता पंवार पार्षद वार्ड न० 9 मंसूरी ने शिफन कोट से लोगो को हटाने का कड़ा विरोध किया

Last Updated : Aug 23, 2020   Views : 295

सरीता पंवार ने शिफन कोट से लोगो को हटाए जाने का विरोध किया है, और लोगो से विशेष अपील की है।

शिफन कोट निवासियों को 22/08/2020 को सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा नोटिस दिये जाने के सम्बन्ध में

उन्होंने सब से अनुरोध किया है कि दिनांक 24 अगस्त 2020 को प्राप्तः 08:00 बजे शिफन कोट निवासियों के बचाव में उनके साथ जरूर खड़े हो। वहां पहुंचने के बाद कृपया सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखें |

अपील में कहा गया है :

साथियों आप सभी को अवगत करवाना चाहूंगी कि प्रार्थी समस्त शिफन कोट निवासी 80-85 गरीब परिवार जिनकी संख्या लगभग ढाई सौ से तीन सौ है, सभी लगभग 30- 35 वर्षों से उक्त स्थल पर निवासरत है जिनका भौतिक सत्यापन नगरपालिका मसूरी द्वारा 2013 में किया गया था। शिफन कोट के गरीब निवासी बोझा उठाकर, रिक्शा चलाकर यां पटरी फेरी लगाकर दिनभर मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करते आ रहे हैं। अपने खून पसीने की गाढ़ी कमाई में से अपने परिवार को भूखे प्यासे रखकर उनके द्वारा बचाई गई जमा पूंजी से उन्होंने अपने निवास स्थान की मरम्मत आदि में खर्च कर दी है।

सरीता ने बताया  :
उन्होंने ये भी कहा है की शिफन कोट निवासी जिनकी संख्या लगभग तीन सौ है जिसमें कई वृद्ध, स्त्री, युवा एवं बहुत ही छोटे बच्चे आपसे अनुरोध करते हैं कि अब कोविड-19 में जहां एक और उनका अस्थाई रोजगार समाप्त हो जाने खानपान का अभाव एवं इसी के साथ-साथ जगह- जगह भूस्खलन , बरसात और भुखमरी से सबका जीवन पहले ही अस्त-व्यस्त हो रखा है वहीं दूसरी ओर उन्हें तत्काल बेघर करने का नोटिस दिनांक 22 /08/2020 को सम्बंधित अधिकारियों द्वारा दिया गया है। इतना ही नहीं उन्हें बेघर करने के लिए कल भारी संख्या में अधिकारियों के साथ पुलिस फोर्स बुलाई गई है जोकि न्यायोचित नहीं है । मेरा आप सब से अनुरोध है कि कल शिफन कोट में निवासरत लोगों को उजाड़े जाने से पहले मानव संवेदना को ध्यान में रखते हुए आपदा की इस घड़ी में हम उनके स्थाई पुनर्वास की व्यवस्था की मांग करें और इस दुख की घड़ी में उनके साथ खड़े हो । आइए मिलकर मांग करें कि जब तक शिफन कोट निवासियों के लिए पुनर्वास की स्थाई व्यवस्था नहीं हो पाती तब तक उन्हें यथावत वहां रहने दिया जाए। समस्त लाचार एवं कमजोर शिफन कोट निवासी सदैव आपके आभारी रहेंगे । साथियों अवगत करवाना चाहूंगी कि माननीय उच्च न्यायालय ने भी अपने आदेश में संबंधित विभागों को यह आदेश दिया है कि वह इसमें स्वयं अपना निर्णय लें। माननीय उच्च न्यायालय ने उन्हें बेदखल करने का कोई भी आदेश नहीं दिया अपितु शासन प्रशासन को इसके लिए स्वतंत्र आजादी दी है कि वह अपनी इच्छा अनुसार इसमें निर्णय ले सकते हैं। आप सब यदि मिलकर साथ देंगे तो मुझे पूर्ण विश्वास है कि शासन-प्रशासन इन के हित में निर्णय लेंगे।
अतः आप सब से अनुरोध है कि दिनांक 24 अगस्त 2020 को प्राप्तः 08:00 बजे शिफन कोट निवासियों के बचाव में उनके साथ जरूर खड़े हो। वहां पहुंचने के बाद कृपया सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखें |

क्या है मामला : 2017 में उच्चन्यालय में पालिका द्वारा सरकारी भूमि पर रहने वाले सभी परिवारों पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाया था। जिसका १७ अगस्त को हाई कोर्ट ने आदेश देकर सभी को शिफन कोट से हटाने के निर्देश दिये हैं।

Related Post

1 Response to सरीता पंवार पार्षद वार्ड न० 9 मंसूरी ने शिफन कोट से लोगो को हटाने का कड़ा विरोध किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Us On Facebook