राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री जी से शिष्टाचार भेंट की।

Last Updated : Aug 11, 2020   Views : 100

आज राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री जी से शिष्टाचार भेंट की। इस अवसर पर उत्तराखण्ड में प्राकृतिक आपदा एवं राहत व बचाव कार्य जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुयी। वनाग्नि जैसी प्राकृतिक आपदाओं को भी राष्ट्रीय आपदा की श्रेणी में शामिल किया जाना चाहिए।
राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में प्राकृतिक आपदाओं का स्वरूप एवं प्रभाव मैदानी क्षेत्रों से भिन्न है, इसलिए योजनाओं एवं दिशानिर्देशों को बनाते समय पर्वतीय क्षेत्रों के अनुरूप योजनाओं को भी शामिल किया जाना चाहिए।
पर्वतीय क्षेत्रों में अधिकतर मकान मिट्टी एवं छतें पठालों से बनायी जाती हैं। आपदा की गाईडलाईन के अनुसार ऐसे मकानों को कच्चा मकान कहा जाता है, इससे आपदा प्रभावितों को काफी कम आर्थिक मदद प्राप्त होती है। इस प्रकार के मकानों को पक्के मकानों की श्रेणी में रखा जाना चाहिए।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Us On Facebook